Category: पत्र

आइंस्टीन का पत्र

(इस पर आइंस्टीन के अलावा अन्य कई गणमान्य व्यक्तियों के हस्ताक्षर थे। यह पत्र 2 दिसंबर 1948 को लिखा गया और 4 दिसंबर 1948 को प्रकाशित हुआ) … Continue readingआइंस्टीन का पत्र

विद्यार्थियों के नाम पत्र – भगतसिंह व बटुकेश्वर दत्त

भगत सिंह और बुटकेश्वर दत्त की ओर से जेल से भेजा गया यह पत्र 19 अक्तूबर, 1929 को पंजाब छात्र संघ, लाहौर के दूसरे अधिवेशन में पढ़कर सुनाया गया था। अधिवेशन के सभापित थे सुभाषचंद्र बोस।- सं. … Continue readingविद्यार्थियों के नाम पत्र – भगतसिंह व बटुकेश्वर दत्त

भगत सिंह का पत्र सुखदेव के नाम

जब असेंबली में बम फेंकने की योजना बन रही थी तो भगत सिंह को दल की जरूरत बताकर साथियों ने उन्हें यह जिम्मेदारी सौपने से इंकार कर दिया। भगत सिंह के अंतरंग मित्र सुखदेव ने उन्हें ताना मारा कि तुम मरने से डरते हो। इस आरोप से भगत सिंह का हृदय रो उठा और उन्होंने दोबारा दल की मीटिंग बुलाई और असेंबली में बम फेंकने का जिम्मा जोर देकर अपने नाम करवाया। आठ अप्रैल, 1929 को असेंबली में बम फेंकने से पहले सम्भवतः 5 अप्रैल को दिल्ली के सीताराम बाजार के घर में उन्होंने सुखदेव को यह पत्र लिखा था जिसे शिव वर्मा ने उन तक पहुँचाया। यह 13 अप्रैल को सुखदेव के गिरफ़्तारी के वक्त उनके पास से बरामद किया गया और लाहौर षड्यंत्र केस में सबूत के तौर पर पेश किया गया। … Continue readingभगत सिंह का पत्र सुखदेव के नाम

सावित्रीबाई फुले का पहला पत्र

Post Views: 55 सावित्रीबाई फुले ने जोतीबा फुले को तीन पत्र लिखे। ये पत्र ऐतिहासिक दस्तावेज हैं, जिनसे तत्कालीन समाज का विश्वसनीय ढंग से पता चलता है। फुले दंपति के

Continue readingसावित्रीबाई फुले का पहला पत्र

हिटलर के नाम गांधी के पत्र

Post Views: 373 गांधी जी संवाद पूरा करने में विश्वास रखते थे। मन में कोई ग्लानि हो, किसी से शिकायत हो, अपनी बात किसी तक पहुंचाने की ज़रूरत हो या

Continue readingहिटलर के नाम गांधी के पत्र

मैक्सिम गोर्की का पत्र रूसी कामरेडों के नाम

Post Views: 324 गरीबी की क्रूरता के विरुद्ध संघर्ष का अर्थ है, दुनिया में फैले उत्पीडऩ के जाल से मुक्ति के लिए छेडी गई जंग, और ढेरों असभ्य विरोधाभासों से

Continue readingमैक्सिम गोर्की का पत्र रूसी कामरेडों के नाम

डा. ओमप्रकाश ग्रेवाल व रमेश उपाध्याय का पत्र-व्यवहार

Post Views: 334 डा. ओमप्रकाश ग्रेवाल का पत्र -1 ई-16, यूनिवर्सिटी कैम्पस,कुरुक्षेत्र (हरियाणा)-132119 30 अगस्त 1991 प्रिय भाई रमेश,             आपका पत्र। बीच में एकाध दिन के लिए बाहर जाना

Continue readingडा. ओमप्रकाश ग्रेवाल व रमेश उपाध्याय का पत्र-व्यवहार

इंद्रनाथ मदान को पत्र -प्रेमचंद

Post Views: 1,556 प्रेमचंद अपनी नज़र मेेंं (कोई रचनाकार-कलाकार स्वयं को कैसे देखता है। यह जानना कम दिलचस्प नहीं होता। यह भी सही है कि किसी लेखक को सिर्फ उसके

Continue readingइंद्रनाथ मदान को पत्र -प्रेमचंद