placeholder

जिनके दिल मैं भरग्ये खटके-रिसाल जांगड़ा

Post Views: 213 हरियाणवी ग़ज़ल जिनके दिल मैं भरग्ये खटके, अपणी मंजिल तै वैं भटके। देख बुढापा रोण पड़ग्या, याद आवैं जोबन के लटके। जिनके ऊंचे कर्म नहीं थे, वैं…

placeholder

जिम्मेदारी दुखी करै सै-रिसाल जांगड़ा

Post Views: 186 हरियाणवी ग़ज़ल जिम्मेदारी दुखी करै सै। दुनियादारी दुखी करै सै। कारीगर नै ऐन बखत पै, खुंडी आरी दुखी करै सै। पीछा चाहूं सूं छुटवाणा, मन अहंकारी दुखी…

placeholder

अपणा खोट छुपाणा सीख – मंगतराम शास्त्री

Post Views: 592 औरां कै सिर लाणा सीख, अपणा खोट छुपाणा सीख। खोट कर्या पछतावै ना, मंद-मंद मुस्काणा सीख। हाथ काम कै ला ना ला, बस फोए से लाणा सीख।…

दिनेश दधीचि की रचनाएं

बात करती हैं नज़र, होंठ हमारे चुप हैं.
यानि तूफ़ान तो भीतर हैं, किनारे चुप हैं.
उनकी चुप्पी का तो कारण था प्रलोभन कोई
और हम समझे कि वो ख़ौफ़ के मारे चुप हैं.
बोलना भी है ज़रूरी साँस लेने की तरह
उनको मालूम तो है, फिर भी वो सारे चुप हैं.
भोर की वेला में जंगल में परिंदे लाखों
है कोई खास वजह, सारे के सारे चुप हैं.
जो हुआ, औरों ने औरों से किया, हमको क्या?
इक यही सबको भरम जिसके सहारे चुप हैं.