Category: कविता

साबिर अली साबिर की कविताएँ, अनुवाद – सुरेन्द्र पाल सिंह

Post Views: 45 हालाँकि साबिर अली साबिर पकिस्तान के रहने वाले हैं, लेकिन साबिर की लोकप्रियता अब किसी देश की काल्पनिक सीमाओं की मोहताज नहीं रही। व्यापक मानवीय सरोकारों के

Continue readingसाबिर अली साबिर की कविताएँ, अनुवाद – सुरेन्द्र पाल सिंह

अक़्लमंद हो तो क्या लिखो ? – हिमांशु कुमार दंतेवाड़ा

Post Views: 41 ‘रूप, रंग, गंध लिखो मन की उड़ान हो गई जो स्वच्छंद लिखो तितली लिखो, फूल लिखोरेशम लिखो, प्रेम लिखोजो भी लिखोप्रशंसा, पैसा और सम्मान के ज़रूरतमंद लिखोचमक

Continue readingअक़्लमंद हो तो क्या लिखो ? – हिमांशु कुमार दंतेवाड़ा

भगत सिंह की कुरबानी पर आल्हा गाने निकला हूँ – शैलेन्द्र सिंह

Post Views: 80 भगत सिंह की कुरबानी पर आल्हा गाने निकला हूँ,आज़ादी के दर्पण की मैं धूल हटाने निकला हूँ।शत-शत कोटिक नमन लेखनी भगत सिंह की करनी को,ऐसा बालक जनने

Continue readingभगत सिंह की कुरबानी पर आल्हा गाने निकला हूँ – शैलेन्द्र सिंह

लाल सिंह दिल की कुछ अप्रकाशित कविताएं (अनुवाद – जयपाल)

Post Views: 41 कवि लाल सिंह दिल पंजाब के प्रगतिशील साहित्य के आन्दोलन के एक बड़े कवि माने जाते हैं। उनका जन्म पंजाब के रामदासिया (चमार) समुदाय के एक गरीब

Continue readingलाल सिंह दिल की कुछ अप्रकाशित कविताएं (अनुवाद – जयपाल)

संत राम उदासी की कविताएँ

Post Views: 44 20 अप्रैल 1930 को जन्मे संत राम उदासी भूमिहीन मजहबी पृष्ठभूमि के एक सिख कवि थे। उन्होंने उस समय वह कविता लिखी जिसे आज हम दलित कविता

Continue readingसंत राम उदासी की कविताएँ

कविताएँ – ईशम सिंह

Post Views: 112 हाल ही में युवा कवि विनोद की दलित कविताएँ प्रकाशित हुई थी। उन कविताओं की सराहना की गई। हरियाणा की हिंदी कविता में ईशम सिंह दलित विमर्श

Continue readingकविताएँ – ईशम सिंह

गोलेन्द्र पटेल की कविताएँ

Post Views: 60 गोलेंद्र पटेल की ये कविताएँ किसानी चेतना से ओत प्रोत हैं। यह जमींदार वाली भारी भरकम किसानी के बरक्स हाशिए पर सिमटे एक दलित और मजदूर की

Continue readingगोलेन्द्र पटेल की कविताएँ

कविताएँ – जयपाल

Post Views: 48 जयपाल की कविता आडम्बर से कोसों दूर है। उनकी कविता में हाशिए पर धकेले गए लोग बराबर उपस्थित रहते हैं। स्त्री अस्मिता की ये कविताएँ महज सहानुभूति

Continue readingकविताएँ – जयपाल

कविताएँ – तनुज

Post Views: 135 तनुज के लिए कविता देश की मौजूदा आबो हवा से भिड़ने का जरिया है। कविता ही में अपनी कृतज्ञता ज्ञापित करते हैं, कविता ही में वे अपने

Continue readingकविताएँ – तनुज

कविताएँ – कपिल भारद्वाज

Post Views: 274 हरियाणा की वर्तमान हिंदी कविता में कपिल भारद्वाज निरन्तर संवादरत हैं। भारद्वाज की इन कविताओं में दिनों दिन घटती जाती संवेदना के बरक्स व्यापक आदमियत का गहरा

Continue readingकविताएँ – कपिल भारद्वाज