placeholder

चाँद, जो केवल ‘चाँद’ नहीं

Post Views: 46 कविता मैं लिखता हूँ कविताएँ चाँद पर,इसलिए नहीं कि चाँद अब तक के कवियों काप्रिय विषय है, और मैंउनका अनुसरणकर्ता हूँ। बल्कि इसलिए किचाँद पहुँचता है आज भीपोषक…

placeholder

भारतमाता – सुमित्रानंदन पंत

Post Views: 16 कविता भारत माताग्रामवासिनी।खेतों में फैला है श्यामलधूल भरा मैला सा आँचल,गंगा यमुना में आँसू जल,मिट्टी कि प्रतिमाउदासिनी। दैन्य जड़ित अपलक नत चितवन,अधरों में चिर नीरव रोदन,युग युग…

placeholder

मनै तेरे बिन सरदा कोनी – कर्मचंद केसर

Post Views: 8 मनै ते॒रे बिन सरदा कोनी।तौं क्यां तै हां भरदा कोनी। मिटदी नहीं तरिस्णा बैरण,जद लग माणस मरदा कोनी। अपणे दुक्ख तै दुखी नहीं वो,औरां का सुख जरदा…

placeholder

क्यूं मेरा गुंट्ठा मांगै सै – कर्मचंद केसर

Post Views: 88 मैं सूं गरीब भील का बेटा, कर लिए कुछ ख्याल मेरा,क्यूं मेरा गुंट्ठा मांगै सै मनै, के करया नुकस्यान तेरा। धनुष विद्या की चाहना थी, मन मैं…

placeholder

क्रांतिज्योति सावित्रीबाई फुले कविता : दीपिका शर्मा

Post Views: 90 क्रान्तिज्योति नाम सावित्री,उसने मन में ठानी थी,तलवार कलम को बना करकेक्रांति सामाजिक लानी थी। शिक्षा का प्रचार करकेसबको नई राह दिखानी थी,सब के ताने सुन-सुन केप्रथम शिक्षिका…

placeholder

जय्ब हरियाणा इस देस की सोच्चै -राजेन्द्र रेढू

Post Views: 13 मनै ला लिया जोर भतेरा रै पर पाट्या कोन्या बेरा रै। किसनै ला दी आग जड़ाँ मैं? क्यूँ धुम्मा-धार अँधेरा रै? कोए स्याणा, मनै खोल बतावै, क्यूँ…

placeholder

साइकिल

Post Views: 8   दो पहियों की गाड़ी प्यारी,  साइकिल की अद्भुत सवारी । जाओ चाहे खेत-बाजार, साइकिल सफर में कभी न हारी । भारी-भरकम वजन उठाती,  कच्ची-पक्की डगर पे…

placeholder

होली आई

Post Views: 9 आसमान में लाली छाई, रंग – बिरंगी होली आई । बच्चों में उत्साह जगा न्यारा, आया – आया त्यौहार प्यारा । चुन्नू – मुन्नू रंग घोल रहे,…

placeholder

कुछ कविताएँ- असंघोष

मध्यप्रदेश के क़स्बा जावत में 1962 में जन्मे असंघोष नई पीढ़ी की दलित कविता के सशक्त हस्ताक्षर हैं. खामोश नहीं हूँ मैं,
हम गवाही देंगे, मैं दूँगा माकूल जवाब, समय को इतिहास लिखने दो, हम ही हटाएँगे कोहरा, ईश्वर की मौत आदि सभी काव्य संग्रह सन् 2000 के बाद प्रकाशित हुए हैं. दुसरे शब्दों में कहा जा सकता है कि असंघोष इस सदी के दलित चेतना के निरंतर सक्रिय कवियों में अग्रणी हैं.