placeholder

ज्ञान का दीप जलाओ साथी – राजकुमार जांगडा ‘राज’

Post Views: 16 ज्ञान का दीप जलाओ साथीअज्ञान अंधेरा मिटाओ साथी प्रेमपथ  को अपनाने कोनफ़रत  के मिट जाने कोसबको गले लग जाने कोअपनी बांहे फैलाओ साथी ज्ञान का दीप जलाओ…

placeholder

राजकुमार जांगडा ‘राज’ की हरियाणवी कविता

Post Views: 12 अक्ल के दाणे नहीं मगज़ में, खुद बिद्वान बता रे सै ।झूठे भरै  हुंकारे सारे , रै भेड चाल में जा रे सै ।। पूँछ हिलावै,सिर भी…

placeholder

सिद्दिक अहमद ‘मेव’ की कविताएं

Post Views: 5 धर्म धर्म नाम पर कदी लड़ा ना, ना कदी कीनी हमने राड़, धर्म नाम पे लड़े जो पापी, वापे हाँ सौ-सौ धिक्कार । धर्म सिखावे प्यार-मुहब्बत, धर्म…

placeholder

धर्म में लिपटी वतनपरस्ती क्या-क्या स्वांग रचाएगी – गौहर रज़ा

देस हरियाणा और सत्यशोधक फाउंडेशन द्वारा 14-15 मार्च को कुरुक्षेत्र स्थित सैनी धर्मशाला में आयोजित हरियाणा सृजन उत्सव में दोनों दिन सवाल उठाने और चेतना पैदा करने वाली कविताएं गूंजती रही। देश के जाने-माने वैज्ञानिक एवं शायर गौहर रज़ा के कविता पाठ के लिए विशेष सत्र आयोजित किया गया। सत्र का संचालन रेतपथ के संपादक डॉ. अमित मनोज ने किया।

placeholder

निराशावादी – रामधारी सिंह ‘दिनकर’

Post Views: 280 पर्वत पर, शायद, वृक्ष न कोई शेष बचा धरती पर, शायद, शेष बची है नहीं घास उड़ गया भाप बनकर सरिताओं का पानी, बाकी न सितारे बचे…