placeholder

जनवादी कविता की विरासत-डा. ओमप्रकाश ग्रेवाल

Post Views: 185 आलेख हिन्दी में आठवें दशक के दौरान जनवादी कविता का स्वर ही प्रमुख रहा है, कई नए हस्ताक्षर इधर जनवादी कविता के क्षेत्र में उभर कर आए…

placeholder

साहित्य और राजनीति के अंत:सम्बन्ध – डा. ओमप्रकाश ग्रेवाल

Post Views: 74 आलेख साहित्य और राजनिति में जो फर्क है, वह तो ई. एम. एस. ने स्पष्ट कर ही दिया है कि राजनीति में ”अपनी सत्ता को बनाये रखने…

placeholder

कविता की भाषा और जनभाषा – डा. ओमप्रकाश ग्रेवाल

Post Views: 36 आलेख कविता की भाषा का जन-भाषा से किस प्रकार का सम्बन्ध हो इस प्रश्न पर हम यहां केवल जनवादी कविता के संदर्भ में ही विचार करेंगे। कविता…

placeholder

साहित्य और विचारधारा -डा. ओमप्रकाश ग्रेवाल

Post Views: 78 आलेख मार्क्सवादी सौंदर्यशास्त्र का यह एक मुख्य कर्तव्य है कि प्रतिक्रियावादी बुर्जुआ चिन्तकों द्वारा साहित्य के बारे में जो अवैज्ञानिक और भ्रान्तिपूर्ण धारणाएं प्रचलित एवं प्रस्थापित की…

placeholder

जनवादी कविता की पहचान – डा. ओमप्रकाश ग्रेवाल

Post Views: 84 आलेख हिन्दी में जनवादी कविता का जो नया उभार सन् 1970 के आसपास दिखाई देने लगा था, उसका सही स्वरूप अब निखर कर सामने आने लगा है।…

placeholder

बौद्धिक साहस और कल्पना की उदात्त तीव्रता का स्वर आबिद आलमी – – डा. ओमप्रकाश ग्रेवाल व दिनेश दधिची

Post Views: 79 ओम प्रकाश ग्रेवाल व दिनेश दधीचि आबिद आलमी के ग़ज़ल-संग्रह ‘नये ज़ाविए’ का मुख्य स्वर सीधी टकराहट का, जोखिम उठाने का है। आबिद आलमी के लिए सृजनात्मकता…