Author: सर छोटू राम

जन्म: 24 नवम्बर 1881, दिल्ली-रोहतक मार्ग पर गांव गढ़ी-सांपला, रोहतक (हरियाणा-तत्कालीन पंजाब सूबा) में       चौधरी सुखीराम एवं श्रीमती सिरयां देवी के घर। 1893 में झज्जर के गांव खेड़ी जट में चौधरी नान्हा राम की सुपुत्राी ज्ञानो देवी से 5 जून को बाल विवाह। शिक्षा: प्राइमरी सांपला से 1895 में झज्जर से 1899 में, मैट्रिक, एफए, बीए सेन्ट स्टीफेन कॉलेज दिल्ली से 1899-1905। कालाकांकर में राजा के पास नौकरी 1905-1909। आगरा से वकालत 1911, जाट स्कूल रोहतक की स्थापना 1913, जाट गजहट (उर्दू साप्ताहिक) 1916, रोहतक जिला कांग्र्रेस कमेटी के प्रथम अध्यक्ष 1916-1920, सर फजले हुसैन के साथ नेशनल यूनियनिस्ट पार्टी (जमींदार लोग) की स्थापना 1923, डायरकी में मंत्राी 1924-1926, लेजिस्लेटिव काउंसिल में विरोधी दल के नेता 1926-1935 व अध्यक्ष 1936, सर की उपाधि 1937, प्रोविन्सियल अटॉनमी में मंत्री 1937-1945, किसानों द्वारा रहबरे आजम की उपाधि से 6 अप्रैल 1944 को विभूषित, भाखड़ा बांध योजना पर हस्ताक्षर 8 जनवरी 1945। निधन: शक्ति भवन (निवास), लाहौर-9 जनवरी 1945। 1923 से 1944 के बीच किसानों के हित में कर्जा बिल, मंडी बिल, बेनामी एक्ट आदि सुनहरे कानूनों के बनाने में प्रमुख भूमिका। 1944 में मोहम्मद अली जिन्ना की पंजाब में साम्प्रदायिक घुसपैठ से भरपूर टक्कर। एक मार्च 1942 को अपनी हीरक जयंती पर उन्होंने घोषणा की-‘मैं मजहब को राजनीति से दूर करके शोषित किसान वर्ग और उपेक्षित ग्रामीण समाज कीसेवा में अपना जीवन खपा रहा हूं।’ भारत विभाजन के घोर विरोधी रहे। 15 अगस्त 1944 को विभाजन के राजाजी फॉर्मुले के खिलाफ गांधी जी को ऐतिहासिक पत्र लिखा।

गांधी क्या बला है! – चौधरी छोटू राम

Post Views: 874 अनुवाद-हरि सिंह बटलर ने अन्य विषयों के अलावा भारतीय राजनीति पर छाई गांधी नामक परिघटना को भी अपने इस किसान-मित्र के माध्यम से जानना चाहा। जवाब में

Continue readingगांधी क्या बला है! – चौधरी छोटू राम

भारत में अंग्रेजी राज के दो पहलू -चौधरी छोटू राम

Post Views: 501 चौधरी छोटू राम, अनुवाद-हरि सिंह बटलर ने छोटू राम को  लंदन से लिखा-‘भारत में अंग्रेजी राज आज भी खूब धमाके से चल रहा है। ऐसा क्यों और

Continue readingभारत में अंग्रेजी राज के दो पहलू -चौधरी छोटू राम

सरकार और आजादी – सर छोटू राम

Post Views: 444 चौधरी छोटू राम, अनुवाद-हरि सिंह हार्टकोर्ट बटलर का मानना था कि तमाम सरकारें नागरिक आजादी पर हावी होती हैं। 1923-24 में, बकौल छोटू राम, ब्रिटिश सरकार का

Continue readingसरकार और आजादी – सर छोटू राम

भारतीय नारियां: चौधरी छोटू राम

Post Views: 408 चौधरी छोटू राम, अनुवाद-हरि सिंह बटलर द्वारा पर्दा-प्रथा, शिक्षा एवं सामाजिक जीवन में महिलाओं से भेदभाव पर टिप्पणियों के जवाब में चौधरी छोटू राम ने एक ओर

Continue readingभारतीय नारियां: चौधरी छोटू राम

अंग्रेजी राज की न्याय-व्यवस्था: एक सटीक टिप्पणी -चौधरी छोटू राम

Post Views: 353 चौधरी छोटू राम, अनुवाद-हरि सिंह चौधरी छोटू राम खुद वकील होने के नाते ब्रिटिश न्याय प्रणाली को भली-भांति समझते थे। बटलर ने मित्रता के नाते इस विषय

Continue readingअंग्रेजी राज की न्याय-व्यवस्था: एक सटीक टिप्पणी -चौधरी छोटू राम

भारत में संकट पर – चौधरी छोटू राम

Post Views: 314 अनुवाद-हरि सिंह हार्टकोर्ट बटलर 1914-18 में रोहतक के उपायुक्त रहे। उस दौरान चौधरी छोटूराम एक प्रमुख वकील, जाट गजट उर्दू साप्ताहिक के सम्पादक एवं जिला कांग्रेस कमेटी

Continue readingभारत में संकट पर – चौधरी छोटू राम

पंजाब के किसान का भविष्य – सर छोटू राम

Post Views: 462 अनुवाद-हरि सिंह संसार परिवर्तनशील है। परिवर्तन प्रकृति का नियम है और इस समय तो दुनिया में परिवर्तन का तूफान बड़ी तेजी से आया हुआ है। भारत भी

Continue readingपंजाब के किसान का भविष्य – सर छोटू राम

खूए शेर या खूए मेष (सिंह-वृत्ति या भेड़-वृत्ति) – चौधरी छोटू राम

Post Views: 451 चौधरी छोटू राम, अनुवाद-हरि सिंह जब युद्ध के नगारे पर चोट पड़ती है और किसान का सिपाही बेटा सजकर शत्रु के मुकाबले के लिए प्रस्थान करता है

Continue readingखूए शेर या खूए मेष (सिंह-वृत्ति या भेड़-वृत्ति) – चौधरी छोटू राम

खूए हरकत या खूए सकून (रजोगुण  या तमोगुण) – चौधरी छोटू राम

Post Views: 561 चौधरी छोटू राम, अनुवाद-हरि सिंह ऐ जमींदार! तेरी खातिर मैंने सारी दुनिया से जंग मोल ले रखी है। तेरे लिए ही जमाने भर को नाराज कर लिया

Continue readingखूए हरकत या खूए सकून (रजोगुण  या तमोगुण) – चौधरी छोटू राम

किसान को नई मनोवृत्ति की आवश्यकता – चौधरी छोटू राम

Post Views: 495 चौधरी छोटू राम, अनुवाद-हरि सिंह पाठक, शायद शिकायत करेंगे कि मैं एक ही विषय की ओर बार-बार और रोज-रोज झुकता हूं। जमींदार की मुसीबत, जमींदार की टूटी-फूटी

Continue readingकिसान को नई मनोवृत्ति की आवश्यकता – चौधरी छोटू राम