placeholder

हरियाणा सृजन उत्सव का शुभारंभ धूमधाम से हुआ

देस हरियाणा द्वारा कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के आर.के. सदन में तीसरे हरियाणा सृजन उत्सव का शुभारंभ धूमधाम से हुआ। देस हरियाणा के संपादक एवं सृजन उत्सव के संयोजक डॉ सुभाश सैनी…

placeholder

हरियाणा सृजन उत्सव को लेकर रचनाकारों एवं कलाकारों में खासा उत्साह

कुरुक्षेत्र 7 फरवरी 2019 कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के आर के सदन में 9 व 10 फरवरी को हरियाणा सृजन उत्सव के आयोजन के संदर्भ में आज सेंट्रल कंटीन, कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय में…

placeholder

हरियाणा सृजन उत्सव 2019

  तीसरे हरियाणा सृजन उत्सव  का आगाज हो चुका है। हर वर्ष यह कार्यक्रम फरवरी के महीने में कुरूक्षेत्र में आयोजित किया जाता है। यह एक साहित्यिक-सांस्कृतिक और समाजिक गतिविधियों का…

placeholder

हरियाणा सृजन उत्सव 2019, कार्यक्रम

तीसरे हरियाणा सृजन उत्सव  का आगाज हो चुका है। हर वर्ष यह कार्यक्रम फरवरी के महीने में कुरूक्षेत्र में आयोजित किया जाता है। यह एक साहित्यिक-सांस्कृतिक और समाजिक गतिविधियों का कार्यक्रम…

placeholder

समाजवाद की स्थापना चाहते थे शहीद भगत सिंह

राजविन्द्र सिंह चन्दी  आल इंडिया लार्यर्स यूनियन जिला कांऊसिल कुरुक्षेत्र ने शहीद-ए-आजम भगत सिंह जयंती के उपलक्ष्य में 27 सितम्बर 2018 को बार रूम जिला न्यायालय कुरुक्षेत्र में शहीद-ए-आजम भगत…

placeholder

वैज्ञानिक मानसिकता का समाज पर प्रभाव -सुरेश कुमार

गतिविधियां अखिल भारतीय जन विज्ञान नेटवर्क के आह्वान पर देशभर में चलाए जा रहे अभियान के तहत अंधविश्वास, रूढिवाद, अज्ञानता, जातिवाद जैसी भयंकर कुरीतियों व मानसिकता के खात्मे के लिए…

placeholder

ओ. पी. सुथार – वर्तमान कृषि संकट और किसान आन्दोलन

गतिविधियां सिरसा में अखिल भारतीय किसान सभा के 34 वे राष्ट्रीय सम्मेलन तैयारी के लिए स्वागत समिति के गठन के अवसर पर ‘युवक साहित्य सदन’ के सभागार में  ‘वर्तमान कृषि…

placeholder

ब्राह्मणवाद के खिलाफ हुई भीम गर्जना – धर्मवीर

सांस्कृतिक हलचल 29 मई को यमुनानगर जिले का गांव टोपरा कलां गांव क्रांतिकारी जय भीम के नारों से गूंज उठा। जिधर देखिये उधर से जय भीम के नीले झंडों के…

placeholder

वर्तमान शिक्षा बालक को एक अच्छी मशीन बनाती है – प्रो. नन्द किशोर आचार्य

15-16 मार्च को पंजाब विश्वविद्यालय, चंडीगढ़ में यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ ओपन लर्निंग के पंजाबी विभाग की ओर से ‘शिक्षा और मानवीय विकास के संदर्भ में मातृ भाषा का योगदान’ विषय पर दो- दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन किया गया ।