अंततः – वेंडी बार्कर

वेंडी बार्कर  अनुवाद दिनेश दधिची

एक-दूजे के जलाशय में रहे हम तैरते
रात-भर धुलती रही
घुलती रही चट्टान तट पर
धार से . जल-धार से .
खुरदरे सब स्थल हुए समतल,
घुले पत्थर,
बने बजरी, हुए बालू .
उच्चतम इस ज्वार में
जल की समूची देह के तल में
तरंगित पंक यूँ पैदा हुआ.

Wendy Barker

At Last

we swim in the lake
of each other. All night
the current washes rocks
from shore, eases the jagged
places, dissolving stones
of stones into grit, sand,
the yield of silt that reaches
all the way under this highest of
tides, entire body of water.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *