फेसबुक पै फ्रेंड पाँच सौ – मनजीत भोला

फ़ेसबुक पै फ्रेंड पांच सौ पड़ोसी तै  मुलाकात नहीं
तकनीक नई यो नया जमाना रही पहलड़ी बात नहीं

रागनी

फ़ेसबुक पै फ्रेंड पांच सौ पड़ोसी तै  मुलाकात नहीं
तकनीक नई यो नया जमाना रही पहलड़ी बात नहीं

व्ट्स एप पै ग्रुप बणा लिए ना दीखै टोळी यारां की
दूर- दूर तक चलती चैटिंग खबर ना रिश्तेदारां  की
पतळी हालत होरी सोशल मिडिया के मारयां की
लाइक ना मिलै तै माँ सी मरज्या सै बिचारयां  की
बिना काम की टैंशन ले रहे कटै चैन तै रात नहीं
तकनीक नई यो नया जमाना रही पहलड़ी बात नहीं

पड़े खाट में फ़िक़्र करैं सैं शहीदां के  सम्मान की
कॉपी करकै पेस्ट करो इब नहीं ज़रूरत ज्ञान की
इस तै बड्डी बात और के होगी रै  न्यूक्सान की
अनपढ़ माणस करैं समीक्षा भारत के संविधान की
बणे फिरैं पंचाती घर में बोलण की औकात नहीं
तकनीक नई यो नया जमाना रही पहलड़ी बात नहीं

फेक आई डी पिछाण होवै ना जनाना के मर्दाना के
एंजल प्रिय बनके रामफळ स्वाद ले मिस तान्या के
कोए कहवै सै  लेल्यो जीसे इसमें सै हरजाना के
गामां में भी इसे बाळक रै देखे मनै किसानां के
जिम जॉइन कर रे सैं वैं खेतां में करैं खुभात नहीं
तकनीक नई यो नया जमाना रही पहलड़ी बात नहीं

अपणा आपा बड़े जतन तै आपै  खुद  ल्हकोरे सैं
नकली माणस नकलिपण में राजी हो कै खोरे सैं
घर में मूसे कुला करैं पर इनके अलग डिठोरे सैं
ॐ भी सुर में बोल ना सकते वैं भी सिंगर होरे सैं
मनजीत भोळा गीत किसा वो जिसमें हों जज्बात नहीं
तकनीक नई यो नया जमाना रही पहलड़ी बात नहीं

 संपर्क-    9034080315

स्रोत- देस हरियाणा, अंक-17, पेज नं. 63

2 comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *