यदि लड़की भी होती मनुष्य – रोजलीन

0

 कविता

यदि लड़की भी होती मनुष्य

लड़की को
हक नहीं होता प्रेम करने का
लेकिन,
आते-जाते, घूमते-फिरते, छिपते-छिपाते
कपड़े छत पर
सुखाते-उतारते भी
प्राय:
हो ही जाता है प्रेम
कहीं न कहीं
कैसे भी
आखिर
मनुष्य होने की
फितरत में है ‘प्रेम’
जबकि
शायद
लड़की को नहीं समझा जाता
मनुष्य

देखा न —
यदि लड़की भी होती मनुष्य।
तो लिख सकती
प्रेम की कविताएं


स्रोतः सं. सुभाष चंद्र, देस हरियाणा( मई-जून 2016) पेज- 61

Advertisements

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.