सुरजीत सिरड़ी की तीन कविताएँ

सुरजीत सिरड़ी हरियाणा राज्य के सिरसा जिले में रहते हैं तथा पेशे से एक शिक्षक हैं। सुरजीत मूलतः पंजाबी भाषा के कवि हैं। इनकी कविताओं में इतिहास के साथ संवाद के समानांतर वर्तमान राजनैतिक चेतना भी नजर आती है जो पाठक को एक पल के लिए ठहरकर सोचने को विवश करती है।
एक साहित्यकार का दायित्व है कि वो अपने आस पास घट रही घटनाओं पर पैनी नजर रखे; इन कविताओं में गम्भीर किसान विमर्श नजर आता है. प्रस्तुत है किसानी चेतना से लबालब उनकी तीन कविताएं-

surjit sirdi
सुरजीत सिरड़ी

1. किसान फौजी

 लकवे दा मारिया उह
मंजी ते पिआ सोचदा
कई वरहे पहिलां
लाम ते गिआ पुत्त
मुड़िआ सी ताबूत विच
पुत्त दा चेहरा
जिवें आख रिहा सी
बापू ! वेख मैं कंड ते नहीं
छाती ते गोली खाधी है
सोचदे -सोचदे उस दी
अक्ख लग्ग गई
बापू नींद विच बरड़ांदा
……………………..
डांग हिक्क ते खाईं ओए
सिर ते खाईं……… डांग
कुझ समझ आउँदा कुझ ना…
शायद किसान अंदोलन
विच गए पुत्त बारे
कोई सुफ़ना वेखदा होनैं
अभड़वाहे खड़ा हो जांदा
मुड़को-मुड़की होइआ फ़ौजी
नींद विच अपनी बंदूक चुक्कदा
भज्जदा होइआ बोलदा जांदा…
दिल्लीए ! मेरा दूजा पुत्त वी…..
कुझ कहिन्दे फ़ौजी ठीक हो गिआ….
कुझ कहिन्दे फ़ौजी पागल हो गिआ…

2. बाबा

 बाबा कदी
बाबर नूँ जाबर आखदा
राजिआँ नूँ शींह ते
मुक़द्दमां नूँ कुत्ते आखदा
सज़ा हुंदी
जेल विच चक्की पीठदा
बाबा अज्ज वी
अपने लालोआँ विच खड़दा
हक्क सच्च लई उदां ही लड़दा
इक होर उदासी लई तुरदा
हाकम दी अक्ख विच अक्ख गड्डदा
ते आखदा
मरदानिया रबाब वजा
ते इस वार
उच्ची सुर विच भाई गुरदास दी वार लाउन्दा
" कुत्ता राज बहालीऐ फिरि चक्की चटै "

3. हुन असीं जाण लिया है

 हुन असीं जाण लिआ है
कि तेरे महिलीं जाण वाला रस्ता
साडे खेतां दे विच दी लंघदा
तेरा वधिआ ढिड
साडे डौलिआं दीआं मच्छीआं नाल ही है तूसिआ
तेरी ऐशो इशरत ते शोर शराबे हेठां कुझ होर नहीं
साडे ही बच्चियां दी किलकारी है गुआची
तेरे मंत्रिआं दीआं गड्डिआं विच पेट्रोल नहीं
साडा ख़ून ते पसीना ही ईंधन है बणदा
तेरी ज़ैड सेक्युरिटी विच मुस्तैद खड़े जवान
साडी ज़रखेज ज़मीन दी ही हण पैदाइश
तेरी जादू दी छड़ी तैनूं तख़त ते बिठाउंदी
असीं मिट्टी नाल मिट्टी होए मिट्टी दे पुत्त अखवांदे
मिट्टी ते माण है सानूं
तखतां ते बैठे राजे मिट्टी 'च रलदे
मिट्टी 'चों ही नवें करुँबल फुटदे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *