सुल्तान प्रजा की सेवा के लिये

सुल्तान की सवारी निकल रही थी और बूढा फकीर उसके रास्ते में ही बैठा हुआ था।

वजीर पंहुचा – बाबा ! दुनियाँ का सबसे ताकतवर सुल्तान इस रास्ते से गुजर रहा है , क्या तुम उसका अभिवादन नहीं करना चाहोगे ? उठो और रास्ते के किनारे खड़े हो जाओ ।

बूढा फकीर बोला – पर मुझे यह तो बताओ कि खुदा ने प्रजा की देखभाल के लिये सुल्तान बनाये हैं अथवा सुल्तान की सेवा के लिये प्रजा को बनाया है ?

राजेन्द्र रंजन चतुर्वेदी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *