‘बाइटिगोंग’ को पढ़ने पर- रेनू यादव

रेनू यादव हरियाणा के महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय में शोधार्थी हैं.

रेनू यादव

सुरेन्द्र पाल सिंह जी द्वारा लिखित ‘बाइटिगोंग’ किताब एक ही सांस में पढ़कर ख़त्म की है। एक मित्र के माध्यम से ‘बाइटिगोंग’ मिली तो पढ़ने के लोभ को रोक नहीं पाई। ‘बाइटिगोंग’ का टाइटल और कवर फ़ोटो देखकर किसी को भी यह धोखा हो सकता है कि इसमें मात्र यात्रा वृतान्तों का वर्णन होगा, लेकिन जैसे ही आप इसे खोलकर पढ़ना शुरू करते हैं तो आपका भ्रम तत्काल दूर हो जाता है। सुरेन्द्र पाल सिंह जी की लाजवाब लेखन शैली आपके साथ पहले आत्मिक जुड़ाव स्थापित करती है और फिर अपने साथ गहरे जल में ऐसे गोते लगवाती है कि बाहर आने पर आपको अपनी मुट्ठी मोतियों से भरी मिलती है। किताब पढ़के ऐसा लगता है जैसे विचारों के किसी गहन-गम्भीर-बीहड़ किन्तु रमणीय बाग से होकर गुजरी हूँ।

सुरेन्द्र पाल सिंह जी की लाजवाब लेखन शैली आपके साथ पहले आत्मिक जुड़ाव स्थापित करती है और फिर अपने साथ गहरे जल में ऐसे गोते लगवाती है कि बाहर आने पर आपको अपनी मुट्ठी मोतियों से भरी मिलती है।

‘बाइटिगोंग’ में विषयानुसार पाँच वर्गों में 20 लेख, टिप्पणियाँ और रिपोर्टें शामिल  हैं। ‘इतिहास के आइने से’ वर्ग में लेखक हमारा परिचय हिन्दू-मुस्लिम-सिख जनता की साझी विरासत से करवाते हैं। गुरु गोबिंद सिंह की पहाड़ी राजाओं के विरुद्ध लड़ाई में किस प्रकार पीर बुद्धू शाह अपनी जान हथेली पर रखकर गुरु गोबिंद सिंह का साथ देते हैं, ऐसे प्रसंग हमारे ज्ञान में नया इजाफ़ा है। पता चलता है कि हमारा अतीत सद्भावना, भाईचारे और अन्याय के ख़िलाफ़ साझे संघर्ष से ओतप्रोत रहा है। ‘जहाज़ कोठी’ शीर्षक से मुग़ल और ब्रिटिश काल के बीच हरियाणा में अराजकता के दौर का को जानना एक नई समझ पैदा करता है। हम अपने निकट अतीत से ही किस कदर अनजान हैं इस बात का भी अहसास होता है। इस अतीत पर साम्प्रदायिकता के सौदागरों ने झूठ-नफ़रत की जो परत चढ़ा दी है उस पर मन क्षोभ से भी भर उठता है। ‘अहसास’ वर्ग के चारों लेख समाज के पोर-पोर में पैठी जाति-व्यवस्था पर सटीक टिप्पणियाँ हैं। जाति-व्यवस्था और राजनीति के गठजोड़ के कारण पैदा हुई विनाशलीला, अफ़वाहों का समाजशास्त्र, बेरोज़गारी, किसानी का संकट जैसे मुद्दों को बड़े ही सारगर्भित अन्दाज में समेटा गया है। जातिवादी संगठनों, मंचों इत्यादि की समाज विरोधी कारगुजारियों को देखते हुए कोई भी जागरूक नागरिक यह कहे बिना नहीं रह सकता कि न केवल इनका हर प्रकार का सरकारी अनुदान बन्द होना चाहिए बल्कि इनपर प्रतिबन्ध भी लगना चाहिए। किन्तु वोट बैंक की जातिवादी राजनीति ऐसा होने दे तब न! जातीय या साम्प्रदायिक ध्रुवीकरण और दंगों के समय किंकर्तव्यविमूढ़ होने की बजाय सही विचार के साथ जनता के बीच जाना होता है, इसी तरीके से हम न केवल वर्तमान को सुधार सकते हैं बल्कि भविष्य में होने वाली विनाशलीलाओं की सम्भावना को भी कम कर सकते हैं। जन- आयोग का गठन और इसके द्वारा शान्ति-सद्भाव हेतु मैदान में उतरना निश्चय ही काबिलेतारीफ़ कदम रहा था। 

‘साक्षात्कार’ वर्ग में शहीद भगत सिंह के भानजे और विद्वान प्रो. जगमोहन सिंह और योगेन्द्र यादव के साक्षात्कार शामिल हैं। जगमोहन जी से इतिहास की कई (कम से कम मेरे लिए) अज्ञात घटनाओं का विवरण मिलता है। योगेन्द्र यादव जी के साथ हुआ साक्षात्कार किसानी के सवाल पर बहस और विमर्श के कई नुक्ते प्रस्तुत करता है और यह काफ़ी विचारोत्तेजक बातचीत है। ‘पुस्तक समीक्षा’ के अन्तर्गत की गयी समीक्षाएँ भी आदर्श नमूना हैं। लेखक हमारे सामने, सुधीर कक्कड़ की पुस्तक की समीक्षा के माध्यम से भूत प्रेत जिन्न आदि से जुड़े मनोरोगों के रहस्यों और इनकी देसी चिकित्सा के पीछे के मनोविज्ञान को दिलचस्प तरीक़े से उदारण सहित विश्लेषित करते हैं। डी. आर. चौधरी द्वारा लिखित ‘खाप पंचायतों की प्रासंगिकता’ पुस्तक चूंकि मैं पहले ही पढ़ चुकी हूँ, फ़िर भी कहना चाहूँगी कि सुरेन्द्र जी द्वारा प्रस्तुत समीक्षा ने पुस्तक के विषय में मेरे अनुभव को पुनः ताज़ा कर दिया है। ‘सम्मान’ के नाम पर मध्युगीन ‘न्याय’ निश्चय ही निन्दनीय है। मैं बस इतना जोड़ना चाहूँगी लैंगिक और जातीय गैरबराबरी को बढ़ावा देने वाली संस्थाओं की कार्यप्रणाली की तरह खाप पंचायतें भी अन्ततोगत्वा सामाजिक राजनीतिक दबदबा कायम रखने को साधनसम्पन्न लोगों के हाथों में एक औजार है।

‘सफ़रनामा’ भाग में कनाडा और ऑस्ट्रेलिया के विभिन्न स्थानों का विवरण मिलता है। लेखक इन जगहों की न केवल भौगोलिक विशेषताओं का वर्णन करते हैं बल्कि इन जगहों के इतिहास, नृजातीय सम्बन्धों और समाजशास्त्रीय पहलुओं को भी विशेष स्थान देते हैं। ‘पंचकूला से मेलबर्न’ में तो ऑस्ट्रेलिया का पूरा इतिहास समेट दिया गया है। मोरनी हिल्ज़ में भी यही झलक मिलती है और दुनिया के दूसरे कोने में स्थित बाइटिगोंग (वर्तमान सॉल्ट सेंट मैरी) में भी यही ऐतिहासिक झलक दिखती है। यह सही भी है क्योंकि किसी स्थान विशेष का बेहतरीन से बेहतरीन यात्रा वृतान्त भी वहाँ के बाशिन्दों और उनके व स्थान विशेष के ऐतिहासिक सम्बन्धों की जानकारी के बगैर अधूरा ही रहता है। 

इस बात की ज़ोरदार सिफारिश करना चाहूंगी कि ‘बाइटिगोंग’ जैसे अटपटे शीर्षक वाली इस पुस्तक को पढ़कर आपको जीवन के कुछ भिन्न और अनछुए पहलुओं को जानने, समझने का निश्चित रूप से विशेष लाभ मिलेगा।

इस भागदौड़ भरी ज़िन्दगी और सोशल मीडिया की अनुत्पादक व्यस्तता के बीच ‘बाइटिगोंग’ को पढ़ना मेरे लिए काफ़ी शिक्षाप्रद और रोचक अनुभव रहा। सुरेन्द्र पाल सिंह जी के व्यक्तित्व से भी उनकी लेखनी के माध्यम से साक्षात्कार हुआ। मुझे लगता है आप तबियत से एक शोधार्थी, घुम्मकड़ और जनता के बीच रहने वाले व्यक्ति हैं और आपको पढ़कर ताज्जुब भी हुआ कि बैंक की उबाऊ-थकाऊ नौकरी के बावजूद भी आपने अपने व्यक्तित्व की इन ज़रूरी विशेषताओं को बचाये रखा।
अंत मे इस बात की ज़ोरदार सिफारिश करना चाहूंगी कि ‘बाइटिगोंग’ जैसे अटपटे शीर्षक वाली इस पुस्तक को पढ़कर आपको जीवन के कुछ भिन्न और अनछुए पहलुओं को जानने, समझने का निश्चित रूप से विशेष लाभ मिलेगा।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *