surjit sirdi

सुरजीत सिरड़ी की तीन कविताएं

सुरजीत सिरड़ी हरियाणा राज्य के सिरसा जिले में रहते हैं तथा पेशे से एक शिक्षक हैं। सुरजीत मूलतः पंजाबी भाषा के कवि हैं। इनकी कविताओं में इतिहास के साथ संवाद के समानांतर वर्तमान राजनैतिक चेतना भी नजर आती है जो पाठक को एक पल के लिए ठहरकर सोचने को विवश करती है। प्रस्तुत है उनकी तीन कविताएं-

surjit sirdi
सुरजीत सिरड़ी

दिल्लीए!

की तूँ भुल्ल गई ऐं
देग विच उबलदा
दयाला
रुँ विच सड़दा
सती दास
आरे नाल चिरदा
मती दास
जां ओह चांदनी चौक
जित्थे धड़ तों वक्खरा
कीता गया सी 
गुरु दा सीस
 
चलो हो सकदा ए
तूँ भुल्ल गई होवें
इह सभ
पर चुरासी तां हाले कल 
ही बीतया
सड़दे टायरां दी बोअ
कायम है हवा विच
ओसे तरां
अजे तां ओदां ही पये ने
साडे फट्ट हरे
लहू मिझ नाल गंधली
पई है धरती
हाले तीकर
अजे तां अदालत विच पै
रहीआं ने
तरीकां वी
 
दिल्लीए!
तूँ ऐनी छेती फ़िर क्यों
मंगन लगदी हैं ख़ून
की कुझ समें बाद
जाग पैंदा है
तेरे अन्दरों सुत्ता होया
कोई पिशाच
ते इह आदमखोर
उदों तक मुंह अड्डी
रक्खदा है
जिन्नी देर मनुक्खता
त्राह त्राह नहीं कर 
उठदी

आवाम

आवाम नूँ कौन दसदा है
सरहद तों परले पार
दुश्मन ही दुश्मन हन
ओहनां दीआं रगां विच
ख़ून नहीं
ज़हर दौड़दा है
ओधर इंसान नहीं
शैतान ही शैतान वसदे हन
आवाम नूँ क्यों
नहीं दसिया जांदा
सरहद तों पार वी
रहिंदे हन मनुक्ख ही
ते ओहनां दे अंदर वी
धड़क रिहा है
ऐसे तरां दा दिल ही

भारत माँ दा शब्द चित्र

तिन्न रंगे कपड़े दी
रेशमी साड़ी विच
लिपटी होई
मत्थे ते बिंदी 
ला के खलोती
सोहनी जेही कोई
मुटियार
भारत माँ किंवें
हो सकदी ऐ
 
चित्रकार 
दा चित्र
ऐना बेमानी
किंवें हो सकदा ऐ
सच्च तों ऐना दूर
शायद उस कोई 
सुपना सिरजिया होवे
पर मैं
किंवें मन्न लवां
इस नूँ भारत माँ
 
एह कौन है ?
जो कचहरियाँ विच
कुर्सी दे पावयां नाल बज्झे
जज्जाँ अग्गे
नियाँ लई हाड़े कढदी है
 
इह कौन है जो
तैमूर,गजनी ते बाबर हत्थों 
ही नहीं अपने जायाँ दे हत्थों वी
निर्वस्त्र हुंदी
अंग अंग तुड़वाउंदी
ज़ार ज़ार रोंदी है
 
एह कौन है 
जो अपने हकां लई
आवाज़ उठाउंदी
ज़ाबरां हत्थों
हर वार 
सिर पड़वाऊंदी
लहूलुहान हुंदी है
 
एह कौन है जो
सैंकड़ियाँ वार
मज़हबां दे ज़हर नाल
तड़पदी , विलकदी , सिसकदी
मुंहों झग उलटदी है
 
एह कौन है जो
बहुत नाँह नाँह 
करदी वी
नीम हकीमां पासों ही
अपने अंदर जनमीयाँ
कैंसरां ते टी बी' याँ
दा इलाज़ करवाऊंदी है
 
एह कौन है 
जो मजबूरी वस
पिठ पिच्छे बन्न  के बाल निक्का
सिर ते बठ्ठल ढोंदी
पौड़ीयाँ चढ़दी
कारपोरेट लई लुट दे केंद्र
स्थापित करदी है
 
एह कौन है
जो हर वार
वोटां लई विकदी
सच्च नूँ झूठ नाल हिकदी
लोकराज लई सिकदी है।
 
मेरे चित्रकार दोस्त
की तूँ भारत माँ दा
इस तरां दा वी 
कोई चित्तर चितर
सकदा हैं
जे चितर सकदा ऐं
तां मैनूं ज़रूर भेंट कर
नहीं तां मेरे वल्लों
भारत माँ दा एह
शब्द चित्तर कबूल कर

Leave a Reply

Your email address will not be published.