लघु कथा

बचपन में हमारे घर के बगल में एक रेलवे लाइन पर फाटक था जिसके पास एक जोहड़ था। शहर भर की गायें दिन भर उस जोहड़ पर कुछ पालियों के द्वारा आराम करने के लिए लायी जाती थी और स्वभाविक है कि उन गायों के झुण्ड में एक सांड भी होता था। एक बार ना जाने कहां से एक दूसरा सांड भी वहां पहुंच गया। स्वभाववश दोनों सांडों में वर्चस्व का महाभारत शुरू हो गया और स्थिति यहां तक पहुंच गई कि उस खूनी लड़ाई मेंं एक सांड बुरी तरह लहू -लुहान था और दूसरा पूरी तरह धराशायी। फिर एक सिलसिला शुरू हुआ कुछ संभ्रांत दिखने वाली महिलाओं के आने, विलाप करने और पूरे कर्मकांड के साथ उस मृत सांड के अंतिम संस्कार का। जिसके लिये एक गहरा गड्ढा खोदा गया और कई बोरी नमक का उपयोग किया गया।

अब थोड़े दिनों के बाद, वहीं नजदीक की रेलवे लाइन से एक महिला के एकल विलाप की आवाज आ रही थी। उत्सुक्तावश वहां जाकर देखा तो पाया कि एक खानाबदोश महिला का गधा रेल के नीचे कट कर मर गया था।  वो गधा उस महिला और उसके परिवार की रोजी रोटी का मुख्य साधन था। महिला रो पीट रही थी और इस काम में नितांत अकेली थी। वहां न कोई कर्मकांड था और न ही कोई रोने में साथ देने वाला।

स्रोतः सं. सुभाष चंद्र, देस हरियाणा ( अंक 8-9, नवम्बर 2016 से फरवरी 2017), पृ.- 106

Advertisements

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.