• शंवाई-पंझेई – दो लड़कियों की बलि देकर बनाया गया था शिव मंदिर

    – अर्शदीप सिंह चंबा जिले की सुंदर वादियों में स्थित है एक छोटी सी तहसील चुराह। चुराह तहसील ऊंचे पहाड़ों पर बसने वाले दो गांव इस इलाके के प्रसिद्ध गांव

    Read more »
  • हरियाणा सृजन उत्सव – सृजन के नए संकल्पों के साथ सम्पन्न

    कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय स्थित आर.के. सदन में देस हरियाणा द्वारा आयोजित किया जा रहा दो दिवसीय हरियाणा सृजन सृजन के नए संकल्पों के साथ सम्पन्न हो गया। अहा जिंदगी के पूर्व

    Read more »
  • हरियाणा सृजन उत्सव का शुभारंभ धूमधाम से हुआ

    देस हरियाणा द्वारा कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के आर.के. सदन में तीसरे हरियाणा सृजन उत्सव का शुभारंभ धूमधाम से हुआ। देस हरियाणा के संपादक एवं सृजन उत्सव के संयोजक डॉ सुभाश सैनी

    Read more »
  • हरियाणा सृजन उत्सव को लेकर रचनाकारों एवं कलाकारों में खासा उत्साह

    कुरुक्षेत्र 7 फरवरी 2019 कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के आर के सदन में 9 व 10 फरवरी को हरियाणा सृजन उत्सव के आयोजन के संदर्भ में आज सेंट्रल कंटीन, कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय में

    Read more »
  • भक्ति आंदोलन और भक्ति

     डा. सेवा सिंह डा. सेवा सिंह की भक्ति और भक्ति आंदोलन पर कई पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं, इनके अध्ययन के निष्कर्षों ने भक्ति और भक्ति आंदोलन संबंधी चिंतन को

    Read more »
  • अवसरवादी मुस्टंडा

    महावीर शर्मा एक नन्हा सा अवसरवादी मुस्टंडा जो मेरे जन्म के वक़्त किसी काली सुरंग से भीतर घुस आया था जवान हो गया है एक जहरीले नाग की तरह ।

    Read more »
  • हरियाणा सृजन उत्सव 2019, कार्यक्रम

    तीसरे हरियाणा सृजन उत्सव  का आगाज हो चुका है। हर वर्ष यह कार्यक्रम फरवरी के महीने में कुरूक्षेत्र में आयोजित किया जाता है। यह एक साहित्यिक-सांस्कृतिक और समाजिक गतिविधियों का कार्यक्रम

    Read more »
  • धुनकर-बुनकर

    डा. श्रेणिक बिम्बिसार तुक-तुक तांय-तांय शब्दों को रूई सा धुनें आओ कविता बुनें चौपाईयों सी लय थाप हो गज़ल के काफिए सी दोहों की सुगमता में भर जाए कबीर सी

    Read more »
  • जाट कहवै, सुण जाटणी

     प्रदीप नील वशिष्ठ आत्मकथ्य एक बात ने कई सालों से मुझे परेशान कर रखा था। और वह शर्म की बात यह कि अपने  हरियाणा में हरियाणवी बोलने वाले को नाक-भौं

    Read more »
  • ज्ञान-पश्चिम-औपनिवेशिकता

     अमनदीप वशिष्ठ भारत लगभग दो सौ साल तक अग्रेंजी साम्राज्य के अधीन रहा। साम्राज्यवाद ने भारत के प्राकृतिक-भौतिक संसाधनों का केवल दोहन ही नहीं किया, बल्कि सांस्कृतिक वर्चस्व कायम करके

    Read more »

सामयिक

विरासत

हिमाचली व्यंजन

– अर्शदीप सिंह बिच्छु बूटी की सब्जी यह एक जहरीला पौधा है। हरे रंग और पान के आकार के पत्तों वाले इस पौधे पर असंख्य

शंवाई-पंझेई – दो लड़कियों की बलि देकर बनाया गया था शिव मंदिर

– अर्शदीप सिंह चंबा जिले की सुंदर वादियों में स्थित है एक छोटी सी तहसील चुराह। चुराह तहसील ऊंचे पहाड़ों पर बसने वाले दो गांव

हरियाणा का इतिहास-सतनामियों का विद्रोह

बुद्ध प्रकाश यद्यपि अकबर (1556-1605), जहांगीर (1605-1627) तथा शाहजहां (1627-1658) के राज्यकाल में हरियाणा में शांति रही और यहां पर सड़कों, सरायों, कोशमीनारों तथा कुओं

धर्म और कार्ल मार्क्स

जगदीश्वर चतुर्वेदी अनेक लोग हैं जो कार्ल मार्क्स के धर्म संबंधी विचारों को विकृत रूप में व्याख्यायित करते हैं। वे मार्क्स की धर्म संबंधी मान्यताओं

लोकधारा