placeholder

प्रेमचंद के अद्वितीय व्याख्याता : कमल किशोर गोयनका – अमरनाथ

बुलंदशहर (उ.प्र.) के एक व्यवसायी परिवार में जन्मे और जाकिर हुसेन कॉलेज (साँध्य), दिल्ली विश्वविद्यालय में प्रोफेसर रहे कमल किशोर गोयनका ( 11.10.1938 ) ने अपने जीवन का तीन चौथाई हिस्सा प्रेमचंद के अध्ययन और अनुसंधान में खपा दिया. उन्होंने प्रेमचंद साहित्य पर अपनी पी-एच.डी. और डी.लिट्. तो किया ही, उसके बाद भी प्रेमचंद साहित्य का अनुशीलन और संपादन करते हुए उनपर 30 से अधिक पुस्तकें रच डालीं.