placeholder

सरकार और आजादी – सर छोटू राम

Post Views: 133 चौधरी छोटू राम, अनुवाद-हरि सिंह   हार्टकोर्ट बटलर का मानना था कि तमाम सरकारें नागरिक आजादी पर हावी होती हैं। 1923-24 में, बकौल छोटू राम, ब्रिटिश सरकार…

placeholder

भारतीय नारियां: चौधरी छोटू राम

Post Views: 102 चौधरी छोटू राम, अनुवाद-हरि सिंह   बटलर द्वारा पर्दा-प्रथा, शिक्षा एवं सामाजिक जीवन में महिलाओं से भेदभाव पर टिप्पणियों के जवाब में चौधरी छोटू राम ने एक…

placeholder

अंग्रेजी राज की न्याय-व्यवस्था: एक सटीक टिप्पणी -चौधरी छोटू राम

Post Views: 101 चौधरी छोटू राम, अनुवाद-हरि सिंह   चौधरी छोटू राम खुद वकील होने के नाते ब्रिटिश न्याय प्रणाली को भली-भांति समझते थे। बटलर ने मित्रता के नाते इस…

placeholder

भारत में संकट पर – चौधरी छोटू राम

Post Views: 104 अनुवाद-हरि सिंह हार्टकोर्ट बटलर 1914-18 में रोहतक के उपायुक्त रहे। उस दौरान चौधरी छोटूराम एक प्रमुख वकील, जाट गजट उर्दू साप्ताहिक के सम्पादक एवं जिला कांग्रेस कमेटी…

placeholder

पंजाब के किसान का भविष्य – सर छोटू राम

Post Views: 109 अनुवाद-हरि सिंह संसार परिवर्तनशील है। परिवर्तन प्रकृति का नियम है और इस समय तो दुनिया में परिवर्तन का तूफान बड़ी तेजी से आया हुआ है। भारत भी…

placeholder

खूए शेर या खूए मेष (सिंह-वृत्ति या भेड़-वृत्ति) – चौधरी छोटू राम

Post Views: 130 चौधरी छोटू राम, अनुवाद-हरि सिंह जब युद्ध के नगारे पर चोट पड़ती है और किसान का सिपाही बेटा सजकर शत्रु के मुकाबले के लिए प्रस्थान करता है…

placeholder

खूए हरकत या खूए सकून (रजोगुण  या तमोगुण) – चौधरी छोटू राम

Post Views: 134 चौधरी छोटू राम, अनुवाद-हरि सिंह ऐ जमींदार! तेरी खातिर मैंने सारी दुनिया से जंग मोल ले रखी है। तेरे लिए ही जमाने भर को नाराज कर लिया…

placeholder

किसान को नई मनोवृत्ति की आवश्यकता – चौधरी छोटू राम

Post Views: 89 चौधरी छोटू राम, अनुवाद-हरि सिंह पाठक, शायद शिकायत करेंगे कि मैं एक ही विषय की ओर बार-बार और रोज-रोज झुकता हूं। जमींदार की मुसीबत, जमींदार की टूटी-फूटी…

placeholder

नया उपदेश – चौधरी छोटू राम

Post Views: 87 चौधरी छोटू राम, अनुवाद-हरि सिंह इन्सान आदत का गुलाम है और अपने समय में प्रचलित विचारों का पुजारी है। कुछ जमाने की मुसीबतों से, कुछ आसपास के…

placeholder

किसान की कराहट – चौधरी छोटू राम

Post Views: 147 चौधरी छोटू राम, अनुवाद-हरि सिंह ऐ मालिक दो जहान! सब्बुआलमीन! मेरे खलीक। मेरे मौला! हे परमात्मा परमेश्वर, सृष्टि के सृजनहार, सर्वशक्तिमान! हे वाहेगुरु! मैंने वह कौन-सा पाप-गुनाह…