placeholder

सरकार और आजादी – सर छोटू राम

चौधरी छोटू राम, अनुवाद-हरि सिंह   हार्टकोर्ट बटलर का मानना था कि तमाम सरकारें नागरिक आजादी पर हावी होती हैं। 1923-24 में, बकौल छोटू राम, ब्रिटिश सरकार का इस बारे…

placeholder

भारतीय नारियां: चौधरी छोटू राम

चौधरी छोटू राम, अनुवाद-हरि सिंह   बटलर द्वारा पर्दा-प्रथा, शिक्षा एवं सामाजिक जीवन में महिलाओं से भेदभाव पर टिप्पणियों के जवाब में चौधरी छोटू राम ने एक ओर जहां उन्हें…

placeholder

अंग्रेजी राज की न्याय-व्यवस्था: एक सटीक टिप्पणी -चौधरी छोटू राम

चौधरी छोटू राम, अनुवाद-हरि सिंह   चौधरी छोटू राम खुद वकील होने के नाते ब्रिटिश न्याय प्रणाली को भली-भांति समझते थे। बटलर ने मित्रता के नाते इस विषय में जो…

placeholder

भारत में संकट पर – चौधरी छोटू राम

अनुवाद-हरि सिंह हार्टकोर्ट बटलर 1914-18 में रोहतक के उपायुक्त रहे। उस दौरान चौधरी छोटूराम एक प्रमुख वकील, जाट गजट उर्दू साप्ताहिक के सम्पादक एवं जिला कांग्रेस कमेटी रोहतक के अध्यक्ष…

placeholder

पंजाब के किसान का भविष्य – सर छोटू राम

अनुवाद-हरि सिंह संसार परिवर्तनशील है। परिवर्तन प्रकृति का नियम है और इस समय तो दुनिया में परिवर्तन का तूफान बड़ी तेजी से आया हुआ है। भारत भी इस तूफान की…

placeholder

खूए शेर या खूए मेष (सिंह-वृत्ति या भेड़-वृत्ति) – चौधरी छोटू राम

चौधरी छोटू राम, अनुवाद-हरि सिंह जब युद्ध के नगारे पर चोट पड़ती है और किसान का सिपाही बेटा सजकर शत्रु के मुकाबले के लिए प्रस्थान करता है तो उसके अंदर…

placeholder

खूए हरकत या खूए सकून (रजोगुण  या तमोगुण) – चौधरी छोटू राम

चौधरी छोटू राम, अनुवाद-हरि सिंह ऐ जमींदार! तेरी खातिर मैंने सारी दुनिया से जंग मोल ले रखी है। तेरे लिए ही जमाने भर को नाराज कर लिया है। इसलिए मुझे…

placeholder

किसान को नई मनोवृत्ति की आवश्यकता – चौधरी छोटू राम

चौधरी छोटू राम, अनुवाद-हरि सिंह पाठक, शायद शिकायत करेंगे कि मैं एक ही विषय की ओर बार-बार और रोज-रोज झुकता हूं। जमींदार की मुसीबत, जमींदार की टूटी-फूटी हालत, जमींदार की…

placeholder

नया उपदेश – चौधरी छोटू राम

चौधरी छोटू राम, अनुवाद-हरि सिंह इन्सान आदत का गुलाम है और अपने समय में प्रचलित विचारों का पुजारी है। कुछ जमाने की मुसीबतों से, कुछ आसपास के हालात से, कुछ…

placeholder

किसान की कराहट – चौधरी छोटू राम

चौधरी छोटू राम, अनुवाद-हरि सिंह ऐ मालिक दो जहान! सब्बुआलमीन! मेरे खलीक। मेरे मौला! हे परमात्मा परमेश्वर, सृष्टि के सृजनहार, सर्वशक्तिमान! हे वाहेगुरु! मैंने वह कौन-सा पाप-गुनाह किया है, जिसकी…