placeholder

डॉ. आम्बेडकर किसान नेता के रूप में-विनोद कुमार

Post Views: 421 आलेख अर्थशास्त्री, राजनेता, मंत्री लेखक, संविधान निर्माता  आदि सभी रूपों और परिस्थितियों में डा.आम्बेडकर ने किसान हित की अनदेखी नहीं की। वे समय-समय पर सभी रूपों में…

placeholder

स्टेज पर वह मां  की आखिरी रात थी संजीव ठाकुर

Post Views: 421 व्यक्तित्व मैं तब साढ़े तीन बरस का था। सिडनी, मेरा भाई, मुझसे चार बरस बड़ा था। मां थिएटर कलाकार थीं, हम दोनों भाइयों को बहुत प्यार से…

placeholder

सदानंद साही मातृभाषाओं को बचाने की जरूरत

Post Views: 482 आलेख सदानंद साही समय आ गया है कि हम भाषा के सवाल को गंभीरता से लें। भाषा मनुष्य होने की शर्त है। इसे सिर्फ अभिव्यक्ति, संपन्न और…

placeholder

भाषा हमारे अस्तित्व का मूल – नोम चोम्स्की

Post Views: 1,147 संवाद विश्वविख्यात भाषा वैज्ञानिक, दार्शनिक, वामपंथी लेखक नोम चोम्स्की ने भाषाविज्ञान संबंधी कई क्रांतिकारी सिद्धांतों का सूत्रपात किया। भाषा और भाषा के विकास को लेकर उनका यह…

placeholder

भारतीय मिथकों  का कवि हरिभजन सिंंह रेणु

Post Views: 438 संस्मरण पूरन मुदगल कविता उसके आसपास थी, आसपास कहीं भी नहीं थी। इस विरोधाभास की सच्चाई क्या है? घर-परिवार, वातावरण, व्यवसाय, सब कविताविहीन। कविता उसके लिए बावड़ी…

placeholder

पारिस्थितिक संकट और समाजवाद का भविष्य – डा. कृष्ण कुमार

Post Views: 492 पठनीय पुस्तक ‘यह पृथ्वी मेरी और सब की है और यह हमारे अस्तित्व की पहली शर्त है। इस पृथ्वी को मोल तोल की एक वस्तु के रूप…

एक अशांत अदीब की खामोश मौत -ज्ञान प्रकाश विवेक

Post Views: 563 ज्ञान प्रकाश विवेक ललित कार्तिकेय का जन्म हरियाणा के सारन में हुआ। उन्होंने ‘हिलियम’, ‘तलछट का कोरस’, कहानी संग्रह, ‘सामने का समय’, आलोचना तथा देरिदा की ‘स्पेक्टर्स…

placeholder

प्रेमचंद से दोस्ती- विकास नारायण राय

Post Views: 496 आलेख महान लेखक प्रेमचंद के साहित्य से हर कोई परिचित है। उनके साहित्य में तत्कालीन सामाजिकशक्तियों की टकराहट-संघर्ष-आंदोलन स्पष्टत: मौजूद हैं। विकास नारायण राय का प्रस्तुत विशेष…

placeholder

किताबें ज्ञान का प्रवेश द्वार हैं – परमानंद शास्त्री

Post Views: 440 परिचर्चा किसी व्यक्ति व समाज की बेहतरी में पुस्तकोंं की भूमिका निर्विवाद है, लेकिन पुस्तक पठन-अध्ययन-मनन की संस्कृति पर मंडराते खतरे की चिंता निरंतर यत्र-तत्र सुनने में…

पहली बार लेखक की हैसियत से – सोना चौधरी

Post Views: 630 9 मई 2016 को कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय, कुरुक्षेत्र में ‘देस हरियाणा’ पत्रिका की ओर से लेखक से मिलिए कार्यक्रम आयोजित किया गया, जिसमें लेखक सोना चौधरी से छात्रों,…