placeholder

मार्क्स के जन्म को दो सौ साल पूरे हो चले – अमन वासिष्ठ

अमन वासिष्ठ (मार्क्स के जन्म को दो सौ साल हो चुके हैं, मार्क्स ने समाज को नए ढंग से व्याख्यायित किया। द्वंद्वात्मक भौतिकवाद, ऐतिहासिक भौतिकवाद, वर्ग-संघर्ष के सिद्धांतों को स्थापित…

placeholder

सबसे ख़तरनाक होता है हमारे सपनों का मर जाना – महावीर शर्मा

महावीर शर्मा  रिटायर्ड कर्मचारी संघ हरियाणा का गठन 6 साल पहले 2012 में किया गया था। वर्तमान में इस संगठन की सदस्यता 20,000 के लगभग है। हरियाणा के सभी जिलों…

placeholder

प्रदीप कासनी – सरबजीत : एक दोस्त एक अदीब

आखिर दिसम्बर ‘98 का यह दिन आना ही था। दक दुर्निवार खिंच से आबद्ध कवि सधे कदमों से उस पाले को लांघ गया, जहां हम सब स्तब्ध और लाचार खड़े…

placeholder

मैं क्यों लिखता हूँ – ओम सिंह अशफाक

ओम सिंह अशफाक मैं क्यों लिखता हूँ?-इस सवाल का जवाब बहुत सरल भी हो सकता है और जटिल भी। सरल इस तरह कि जैसे हर इंसान भोजन करता है, सोता…

placeholder

और सफर तय करना था अभी तो, सरबजीत! – ओमप्रकाश करुणेश

ओम प्रकाश करुणेश  (कथाकर व आलोचक सरबजीत की असामयिक मृत्यु पर लिखा गया संस्मरण) सरबजीत के साथ पहली मुलाकात ठीक ठाक से तो याद नहीं, पर खुली-आत्मीय भरी मुलाकातें…बाद तक भी…

placeholder

जीना इसी का नाम है -गीता पाल

गीता पाल           जैसे ही मैंने क्लास में कदम रखा और पूछा, मॉनीटर कौन है? लड़कों की तरफ से आवाज आई – जी चन्दा। बहुत ही साधारण,…

placeholder

हम ढूंढते फिरे जिन्हें खेतों और गलियों में – ओम सिंह अशफाक

ओमसिंह अशफाक  शमशेर बहादुर सिंह  (13-1-1911—12-5-1993) आज से करीब 64 साल पहले मैं शमशेर के इलाके में ही पैदा हुआ था। उनके पैतृक गांव ऐलम (मुज्जफरनगर) से मेरा पैतृक गांव…

placeholder

रात भर लोग अंधेरे की बलि चढ़ते हैं – ओम सिंह अशफाक

ओमसिंह अशफाक  आबिद आलमी (4-6-1933—9-2-1994) पिछले दिनों अम्बाला में तरक्की पसंद तहरीक में ‘फिकोएहसास के शायर’ जनाब आबिद आलमी हमसे हमेशा के लिए बिछड़ गए। उनका मूल नाम रामनाथ चसवाल…

placeholder

पितृतुल्य प्रो. शिव कुमार मिश्र – ओम सिंह अशफाक

ओमसिंह अशफाक  शिव कुमार मिश्र (2-2-1931—21-6-2013) जी का जाना हिन्दी जगत में सक्रिय विमर्श और रचनात्मक आलोचना के एक स्तम्भ का उखड़ जाना है। समकालीन परिदृश्य में इस वय में बहुत…

placeholder

याद आते हैं पुराने दोस्त नानक चंद से बातचीत -चंद्र त्रिखा

चंद्र त्रिखा नानक चंद की उम्र उस समय 21 साल रही होगी, जब पाकिस्तान के नूरगढ़ गांव जिला मुल्तान में उनके गांव पर मुसलमानों ने हमला बोल दिया। पाकिस्तान और…