कछुआ और खरगोश – इब्ने इंशा

Post Views: 352 लोक कथा एक था कछुआ, एक था खरगोश। दोनों ने आपस में दौड़ की शर्त लगाई। कोई कछुए से पूछे कि तूने शर्त क्यों लगाई? क्या सोचकर…

placeholder

क़ानून- हरभगवान  चावला

Post Views: 470 हरभगवान चावला (हरभगवान चावला सिरसा में रहते हैं। हरियाणा सरकार के विभिन्न महाविद्यालयों में  कई दशकों तक हिंदी साहित्य का अध्यापन किया। प्राचार्य पद से सेवानिवृत हुए।…

placeholder

इतिहास- हरभगवान  चावला

Post Views: 1,110 हरभगवान चावला (हरभगवान चावला सिरसा में रहते हैं। हरियाणा सरकार के विभिन्न महाविद्यालयों में  कई दशकों तक हिंदी साहित्य का अध्यापन किया। प्राचार्य पद से सेवानिवृत हुए।…

placeholder

न्याय- हरभगवान  चावला

Post Views: 362 हरभगवान चावला (हरभगवान चावला सिरसा में रहते हैं। हरियाणा सरकार के विभिन्न महाविद्यालयों में  कई दशकों तक हिंदी साहित्य का अध्यापन किया। प्राचार्य पद से सेवानिवृत हुए।…

placeholder

सज़ा- हरभगवान  चावला

Post Views: 400 हरभगवान चावला (हरभगवान चावला सिरसा में रहते हैं। हरियाणा सरकार के विभिन्न महाविद्यालयों में  कई दशकों तक हिंदी साहित्य का अध्यापन किया। प्राचार्य पद से सेवानिवृत हुए।…

placeholder

भेड़िया- हरभगवान  चावला

Post Views: 676 हरभगवान चावला (हरभगवान चावला सिरसा में रहते हैं। हरियाणा सरकार के विभिन्न महाविद्यालयों में  कई दशकों तक हिंदी साहित्य का अध्यापन किया। प्राचार्य पद से सेवानिवृत हुए।…

placeholder

मोहल्ला द्रोह- हरभगवान  चावला

Post Views: 190 हरभगवान चावला (हरभगवान चावला सिरसा में रहते हैं। हरियाणा सरकार के विभिन्न महाविद्यालयों में  कई दशकों तक हिंदी साहित्य का अध्यापन किया। प्राचार्य पद से सेवानिवृत हुए।…

placeholder

ख़ून- हरभगवान  चावला

Post Views: 131 हरभगवान चावला राजा को ख़ून देखने का जुनून था। ख़ून देखे बिना उसे नींद नहीं आती थी। राजा चूंकि राजा था, ख़ून बहाने के परंपरागत एकरस तरीक़े…

placeholder

मैं लड़की हूं न – कृष्ण चन्द्र महादेविया

Post Views: 395 कृष्ण चन्द्र महादेविया लघुकथा बस भरी तो थी किन्तु पाठशाला जाने वाले छोटे और बड़े बच्चे बस में चढ़ आते थे। कुछ अकेले तो कुछ को उनके…

placeholder

चौराहे का दीया – कमलेश भारतीय

Post Views: 211 कमलेश भारतीय (वरिष्ठ साहित्यकार कमलेश भारतीय दैनिक ट्रिब्यून से जुड़े रहे हैं। हरियाणा ग्रंथ अकादमी की पत्रिका कथा समय का संपादन किया। वर्तमान में नभछोर के साहित्यिक…