placeholder

‘हम नहीं रोनी सूरत वाले’ : सावित्रीबाई फुले की कविताई – बजरंग बिहारी तिवारी

Post Views: 1,929 जीवन की गहरी समझ के साथ काव्य-रचना में प्रवृत्त होने वाली सावित्रीबाई फुले (1831-1897) अपने दो काव्य-संग्रहों के बल पर सृजन के इतिहास में अमर हैं. उनका…

placeholder

मां – कामरेड पृथ्वी सिंह गोरखपुरिया

मेरी मां सारी उम्र मेरी सहयोगी बल्कि यो कहिए संघर्ष की साथी रही। पहले मेरी पढ़ाई जारी रखने के लिए और फिर मार्क्सवादी पार्टी की राजनीति (मजदूरों किसानों की राजनीति को आगे बढ़ाने के लिए) ताउम्र मेरा साथ देती रही। उसने अपने जेवरात, गांव के 2 प्लॉट तथा उसके नाम की 20 एकड़ जमीन मुझे  बेचने के लिए दे दी।

placeholder

हरियाणा की राजनीति में महिलाएं – सोनिया सत्या नीता

Post Views: 691 महिला वोटरों की कम भागीदारी या फिर पुरुषवादी सोच या फिर पार्टियां ही महिला नेत्री को नहीं चाह रहीं मैदान में उतारना क्या है कारण..? हरियाणा प्रदेश…

placeholder

शानदार तोहफा – जोतिबा फुले, सावित्रीबाई फुले और डा. भीम राव अम्बेडकर की संपूर्ण रचनाएं – सत्यशोधक फाऊंडेशन

Post Views: 783 पीडीएफ फार्मेट में पढ़ने और डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें जोतिबा फुले की संपूर्ण रचनाएं जोतिबा फुले संपूर्ण रचनावली जोतिबा फुले जीवनी – एन.सी.आर.टी.ई. गुलामगिरी –…

placeholder

छाती, तू और मैं – निकिता आजाद

Post Views: 456 निकिता आजाद (युनिवर्सिटी ऑफ आक्सफोर्ड) में पढ़ी हैं। उन्होंने  ‘हैपी टु ब्लीड’ लिखे सैनिटरी नैपकिन के साथ अपनी तसवीर पोस्ट करते हुए लोगों को पितृसत्तात्मक रवैए के…

placeholder

8 मार्च – अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस का इतिहास

Post Views: 434 – सोनी सिंह 8 मार्च अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस दुनिया भर में हर साल मनाया जाता है। यह महिलाओं की आर्थिक, राजनीतिक और सामजिक उपलब्धियों के उपलक्ष्य त्यौहार…

placeholder

एक विद्रोही स्त्री – आलोक श्रीवास्तव

Post Views: 316 इस समाज में शोषण की बुनियाद पर टिके संबंध भी प्रेम शब्द से अभिहित किये जाते हैं एक स्त्री तैयार है मन-प्राण से घर संभालने, खाना बनाने…

placeholder

प्रेम विवाह – डा. कामिनी साहिर 

Post Views: 384 हमारे यहां मनुष्य को सामाजिक प्राणी कहा गया है, विदेशी भाषा में इसका रूपान्तर सामाजिक पशु है। दोनों मनुष्य की परिभाषा  हेतु पर्यायवाची शब्द हैं परन्तु विदेशी…

placeholder

मुनाजात-ए-बेवा – अल्ताफ़ हुसैन हाली पानीपती

Post Views: 659 मुनाजात-ए-बेवा (1884) ए सब से अव्वल1 और आखिर2 जहाँ-तहाँ हाजि़र और नाजि़र3 ए सब दानाओं से दाना4 सारे तवानाओं से तवाना5 ए बाला हर बाला6 तर से…

placeholder

सावित्रीबाई फुले : जीवन जिस पर अमल किया जाना चाहिए

Post Views: 451 7 जनवरी को दलित शोषण मुक्ति मंच (DSMM), दिल्ली ने भारत की पहली महिला शिक्षक सावित्रीबाई फुले की 187वें जन्मदिवस पर एक कार्यक्रम का आयोजन किया न्यूज़क्लिक…