placeholder

एक विद्रोही स्त्री – आलोक श्रीवास्तव

Post Views: 42 इस समाज में शोषण की बुनियाद पर टिके संबंध भी प्रेम शब्द से अभिहित किये जाते हैं एक स्त्री तैयार है मन-प्राण से घर संभालने, खाना बनाने…

placeholder

प्रेम विवाह – डा. कामिनी साहिर 

Post Views: 99 हमारे यहां मनुष्य को सामाजिक प्राणी कहा गया है, विदेशी भाषा में इसका रूपान्तर सामाजिक पशु है। दोनों मनुष्य की परिभाषा  हेतु पर्यायवाची शब्द हैं परन्तु विदेशी…

placeholder

मुनाजात-ए-बेवा – अल्ताफ़ हुसैन हाली पानीपती

Post Views: 162 मुनाजात-ए-बेवा (1884) ए सब से अव्वल1 और आखिर2 जहाँ-तहाँ हाजि़र और नाजि़र3 ए सब दानाओं से दाना4 सारे तवानाओं से तवाना5 ए बाला हर बाला6 तर से…

placeholder

सावित्रीबाई फुले : जीवन जिस पर अमल किया जाना चाहिए

Post Views: 119 7 जनवरी को दलित शोषण मुक्ति मंच (DSMM), दिल्ली ने भारत की पहली महिला शिक्षक सावित्रीबाई फुले की 187वें जन्मदिवस पर एक कार्यक्रम का आयोजन किया न्यूज़क्लिक…

placeholder

सावित्रीबाई फुले: आधुनिक भारत की प्रथम शिक्षिका

Post Views: 269 प्रमोद दीक्षित ‘मलय‘ .भारतवर्ष में 19वीं शताब्दी का उत्तरार्ध शैक्षिक, सामाजिक एवं सांस्कृतिक आंदोलनों एवं समाज में व्याप्त अस्पृश्यता, बाल विवाह, सती प्रथा, कन्या भ्रूण हत्या एवं…

placeholder

बेटियों की निस्बत – अल्ताफ़ हुसैन हाली पानीपती  

Post Views: 60 ज़ाहलियत के ज़माने में ये थी रस्मे अरब के किसी घर में अगर होती थी पैदा दुख़्तर1 संग दिल2 बाप उसे गोद से लेकर माँ की गाड़…

placeholder

दुपट्टा एक लड़की के गले का फंदा है – हरमन दिनेश

Post Views: 215 जिस मुल्क में बेटियों की भ्रूण हत्या को रोकने के लिए बेटी बचाओ जैसा कैंपेन चलाना पड़े उस देस में बेटियाँ कितनी सशक्त होंगी यह सहज अनुमान…

placeholder

दलित स्त्री के जीवन की महागाथा – दाई’

Post Views: 84 अनिता भारती भारत की सत्तर प्रतिशत आबादी गांव में निवास करती है। इस आबादी के पास शिक्षा से लेकर स्वास्थ्य जैसी मूलभूत सुविधाओं का नितांत अभाव है। …

placeholder

मनुष्य की नई प्रजाति – सहीराम

Post Views: 66 सहीराम  हम मनुष्य की नई प्रजाति हैं। हमारी खासियत यह है कि हम अपने बच्चों को खा जाते हैं। हम सांप नहीं हैं, हम कोई ऐसे बनैले…

लिंग-संवेदी भाषा की ओर एक कदम – डा. सुभाष चंद्र

Post Views: 54 डा. सुभाष चंद्र अपने अल्फ़ाज पर नज़र रक्खो, इतनी बेबाक ग़ुफ्तगू न करो, जिनकी क़ायम है झूठ पर अज़मत, सच कभी उनके रूबरू न करो। – बलबीर सिंह राठी…