placeholder

जन-जन का चेहरा एक- गजानन माधव मुक्तिबोध

Post Views: 63 चाहे जिस देश, प्रान्त, पुर का हो जन-जन का चेहरा एक!  एशिया की, यूरोप की, अमरीका की  गलियों की धूप एक।  कष्ट-दुख सन्ताप की,  चेहरों पर पड़ी…

placeholder

ज्ञान का दीप जलाओ साथी – राजकुमार जांगडा ‘राज’

Post Views: 22 ज्ञान का दीप जलाओ साथीअज्ञान अंधेरा मिटाओ साथी प्रेमपथ  को अपनाने कोनफ़रत  के मिट जाने कोसबको गले लग जाने कोअपनी बांहे फैलाओ साथी ज्ञान का दीप जलाओ…

placeholder

राजकुमार जांगडा ‘राज’ की हरियाणवी कविता

Post Views: 26 अक्ल के दाणे नहीं मगज़ में, खुद बिद्वान बता रे सै ।झूठे भरै  हुंकारे सारे , रै भेड चाल में जा रे सै ।। पूँछ हिलावै,सिर भी…

placeholder

सिद्दिक अहमद ‘मेव’ की कविताएं

Post Views: 7 धर्म धर्म नाम पर कदी लड़ा ना, ना कदी कीनी हमने राड़, धर्म नाम पे लड़े जो पापी, वापे हाँ सौ-सौ धिक्कार । धर्म सिखावे प्यार-मुहब्बत, धर्म…

placeholder

सृजन उत्सव में गूंजी सवाल उठाती कविताएँ

देस हरियाणा और सत्यशोधक फाउंडेशन द्वारा 14-15 मार्च को कुरुक्षेत्र स्थित सैनी धर्मशाला में आयोजित हरियाणा सृजन उत्सव में दोनों दिन सवाल उठाने और चेतना पैदा करने वाली कविताएं गूंजती रही। देश के जाने-माने वैज्ञानिक एवं शायर गौहर रज़ा के कविता पाठ के लिए विशेष सत्र आयोजित किया गया। सत्र का संचालन रेतपथ के संपादक डॉ. अमित मनोज ने किया।