placeholder

कात्यक की रुत आ गई – डा. राजेंद्र गौतम

Post Views: 54 वरिष्ठ साहित्यकार एवं समीक्षक राजेंद्र गौतम, दिल्ली विश्वविद्यालय के हिंदी-विभाग से सेवानिवृत हुए हैं। इनके दोहे छंद-निर्वाह की कारीगरी नहीं, बल्कि आधुनिक कविता के तमाम गुण लिए…

placeholder

खाली हाथ – जयपाल

Post Views: 15 वे दिन भर शहर की सूरत संवारते हैंऔर अपनी सूरत बिगाड़ते हैंदिन ढलने परसिर नीचा करमुंह लटकाएचल पड़ते हैं वापिसअपने घरों की तरफहताश-निराशजैसे शमशान से लौटते हैं…

placeholder

जाले – जयपाल

Post Views: 18 जाले हर युग के होते हैंहर युग बुन लेता है अपने जालेहर युग चुन लेता है अपने जालेधूल मिट्टी से सने प्राचीन जालेमोती से चमकते नवीन जालेसमय…

placeholder

पाखण्डी – जयपाल

Post Views: 22 वे आर्थिक सुधार करेंगेमरने को मजबूर कर देंगेवे रोजगार की बात करेंगेरोटी छीन लेंगेवे शिक्षा की बात करेंगेव्यापार के केन्द्र खोल देंगेवे शान्ति की अपील करेंगेजंग का…

placeholder

बच्चा – जयपाल

Post Views: 14 तमाशा दिखाता है बच्चान सांप से डरता है न नेवले सेन बंदर से न भालू सेन शेर से न हाथी सेरस्सी पर चलता है बच्चागिरने से नहीं…

placeholder

बहिष्कृत औरत – जयपाल

Post Views: 30 शहर से बाहर सेएक औरत शहर के अंदर आती हैघरों पर से मिट्टी झाड़ती हैफर्श चमकाती हैगलियों को बुहारती हैपी जाती है नालियों की सारी दुर्गंधगली-मुहल्लों को…

placeholder

पत्नी – जयपाल

Post Views: 14 पत्नी का लौट आता है बचपनजब दूर पार से मिलने आते हैं पिता जीपत्नी की आंखों में उतर आता है संमदरजब अचानक आकर मां सिर पर रखती…

placeholder

उनका सवाल – जयपाल

Post Views: 80 वे पूछते हैं –आज भी उनके सिर पर गंदगी का टोकरा क्यों रखा हैउनकी बस्ती शहर या गांवों से बाहर ही क्यों होती हैउनके मंदिरों-गुरुद्वारों में दूसरे…

placeholder

बगुला और मछली – जयपाल

Post Views: 65 बगुला केवल मछली को ही नहीं देखतापानी को भी देखता हैकितने पानी में है मछली बगुला केवल मछली को ही नहीं देखतासाथ घूम रही दूसरी मछलियों को…

placeholder

कहां मानते हैं बच्चे – जयपाल

Post Views: 45 बच्चे तो बच्चे होते हैंकहां मानते हैं बच्चेसामने वाले घर में जायेंगे तो कूदते हुएआएंगे तो फुदकते हुएकभी उनके बच्चों के साथ कुछ खा आएंगेकभी उनको कुछ…