placeholder

दरअसल- तारा पांचाल

Post Views: 4 कहानी (तारा पांचाल 28 मई,1950 – 20 जून, 2009।  ‘सारिका’, ‘हंस’, ‘कथन’, ‘वर्तमान साहित्य’, ‘पल-प्रतिपल’, ‘बया’, ‘गंगा’, ‘अथ’, ‘सशर्त’, ‘जतन’, ‘अध्यापक समाज’, ‘हरकारा’ जैसी प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में…

placeholder

मां की ना कहिए, न्या की कहिए – तारा पांचाल

Post Views: 5                                 समाज अपने समय की सच्चाई को अपने रचनाकारों की आंख से देखता है। यह जानना हमेशा ही रोचक होता है कि रचनाकार अपने समय को कैसे…

placeholder

सरबजीत की याद में -तारा पांचाल

Post Views: 1 कविता बहुत उजालों में लिए तुम अपने आसपास नन्हें-नन्हें जुगनुओं जैसे सूरजों के बीच इसलिए दूरी बनी रही तुम्हारे, और तुम्हारी कविताओं के अंधेरे के बीच। पर…

placeholder

फूली – तारा पांचाल

Post Views: 4 उचटी नींद के ऊल-जलूल सपने और उन सपनों के शुभ-अशुभ विचार। दुली के परिवार में कुछ दिनों से ऐसे ही सपने देखे जा रहे थे। कभी-कभी ये…

संकट मोचन – तारा पांचाल

Post Views: 12 कहानी संकट-मोचन        क्योंकि वे बंदर थे अतः स्वाभाविक रूप से उनकी उछल-कूद, उनके उत्पात सब बंदरों वाले थे। गांव वाले उनसे तंग आ चुके थे। गांव…