placeholder

गाम के पान्ने – ओम प्रकाश करुणेश

Post Views: 134 गाम के पान्ने गांव-मुहल्ले, कस्बे-शहरअगड़-बगड़ में बसी मरोड़पड़ोस के तान्ने, पास के पान्नेबसे सरिक्के-कुणबे होड़जलण में फुकते, राख फांकतेधूल उड़ाते, गोहर टेढ़ेघास-फूंस न्यार ने जारीघर की रोणक…

placeholder

और सफर तय करना था अभी तो, सरबजीत! – ओमप्रकाश करुणेश

Post Views: 183 ओम प्रकाश करुणेश  (कथाकर व आलोचक सरबजीत की असामयिक मृत्यु पर लिखा गया संस्मरण) सरबजीत के साथ पहली मुलाकात ठीक ठाक से तो याद नहीं, पर खुली-आत्मीय भरी…

placeholder

हमें लिखो – ओम प्रकाश करुणेश

Post Views: 770 हमें लिखो स्याह न हो आने वाले दिन कवि ! इन दिनों के बारे में जरूर लिखो सबको मिले न्याय और सब हो अलहादकारी भेदभाव मिटे, कवि…