placeholder

पीछा करो उनका

Post Views: 493 बड़े चतुर हैं वे गजब के वाचाल और जादूगर रूमाल झटकते हैं तो उड़ने लगती हैं रंग-बिरंगी तितलियां खाली डिब्बों पर घुमाते हैं अपना हाथ और आसमान…

placeholder

बहुत उत्साहित हैं वे

Post Views: 481 बहुत उत्साहित हैं वे इन दिनों वे नए और अच्छे और कलफ़दार कड़क कपड़े पहनकर आते हैं हमारे बीच पहले तो मैं जानता था उन सभी को…

placeholder

ब्रजेश कृष्ण की कविताएं

सबुकछ जानती है पृथ्वी…
ये कैसी डरावनी परछाइयाँ
कि छिप रहे हैं हम
अपनी ही चालाक हँसी के पीछे
तहस-नहस हो रहे हैं घोंसले
डूब रही है पक्षियों की आवाज
मर रहा है हवा का संगीत