placeholder

एक हजार बरस पहले हिन्दुस्तान में मौलिक चिंतन समाप्त हो गया – डॉ.राम मनोहर लोहिया

डा.राम मनोहर लोहिया भारतीय स्वतनत्रता सेनानी, प्रखर विचारक, राजनेता और सुप्रसिद्ध समाजवादी थे। डॉ.लोहिया  विचारों के बल पर राजनीति का रुख बदलने वाले नेता थे। डॉ.लोहिया ने हमेशा भारत की आधिकारिक भाषा के रूप में अंग्रेजी से अधिक हिंदी को प्राथमिकता दी। उनका विश्वास था कि अंग्रेजी शिक्षित और अशिक्षित जनता के बीच दूरी पैदा करती है। प्रस्तुत है – डॉ. लोहिया के हिन्दी भाषा के प्रति विचार ।

placeholder

राष्ट्रीय एकता और भाषा की समस्या – भीष्म साहनी

मैं भाषा वैज्ञानिक नहीं हूं, भाषाएं कैसे बनती और विकास पाती हैं, कैसे बदलती हैं, इस बारे में बहुत कम जानता हूं, इसलिए किसी अधिकार के साथ भाषा के सवाल…

placeholder

हरियाणा की राजनीति में महिलाएं – सोनिया सत्या नीता

महिला वोटरों की कम भागीदारी या फिर पुरुषवादी सोच या फिर पार्टियां ही महिला नेत्री को नहीं चाह रहीं मैदान में उतारना क्या है कारण..? हरियाणा प्रदेश में महिलाओं की…

placeholder

‘वेटिंग फॉर वीजा ‘ – डॉ. भीम राव आंबेडकर

‘वेटिंग फॉर वीजा ‘ डॉ. भीम राव आंबेडकर डॉ. भीमराव आंबेडकर की पुस्तिका ‘वेटिंग फॉर वीजा’ संयुक्त राज्य अमेरिका के कोलंबिया विश्वविद्यालय के पाठ्यक्रम में शामिल है। पुस्तिका के संपादक…

placeholder

शानदार तोहफा – जोतिबा फुले, सावित्रीबाई फुले और डा. भीम राव अम्बेडकर की संपूर्ण रचनाएं – सत्यशोधक फाऊंडेशन

पीडीएफ फार्मेट में पढ़ने और डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें जोतिबा फुले की संपूर्ण रचनाएं जोतिबा फुले संपूर्ण रचनावली जोतिबा फुले जीवनी – एन.सी.आर.टी.ई. गुलामगिरी – जोतिबा फुले सावित्री…

placeholder

11 अप्रैल जोतिबा फुले 14 अप्रैल बाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर की जंयति पर सभी पाठकों को बधाई

सत्यशोधक फाऊंडेशन के सहयोग से देस हरियाणा पत्रिका बाबा साहेब व जोतिबा फुले जी की जयंति पर अपने पाठकों को समर्पित करती है डा. भीमराव अम्बेडकर की संपूर्ण रचनाएं पढ़ने…

placeholder

बाम्हनों के स्वार्थी ग्रंथों की चतुराई के बारे में

जोतिबा फुले यह          लेप की गरमी में अंगडाई ले सोवे। नींद कहां से आवे। आलसी को।। वह          ओस से भीगी खेत की मेंड पर। बैलों को चराता वह। शुक्रोदय…

placeholder

एकलव्य का लेख

सरबजीत सोही गुस्ताखी माफ करना गुरु जी! मैं कहना तो नहीं चाहता, पर हर जन्म में आपने छला है, मेरी प्रतिभा को, कभी शुद्र का सूत कह कर तो कभी…

placeholder

ठीक आदमी चुन कै हिन्दुस्तान बचा लिये सखी

खान मनजीत भावडिया मजीद तौली हौले त्यार बूथ पर चालिए सखी, सै हक तेरा बोट जरूर डालिए सखी । पांच साल में एक दिन मुसकल तै पाया करै, समझदार माणस…

placeholder

करो वोट की चोट

जोरा सिंह साच कम और झूठ घणी मुश्किल करनी पहचान दिख्खै।। करो वोट की चोट जुणसा नेता बेईमान दिख्खै।। तेरा नाम लेकै नै गले मिलैंगे हां भरवाए बिन नहीं हिलैंगे…