placeholder

गाँधी जी की राष्ट्रभाषा ‘हिन्दुस्तानी’ का क्या हुआ? – अमरनाथ

वैसे भी हिन्दुस्तानी कहने से जिस तरह व्यापक राष्ट्रीयता और सामाजिक समरता का बोध होता है उस तरह हिन्दी कहने से नहीं. जैसे पंजाबियों की पंजाबी, मराठियों की मराठी, बंगालियों की बंगाली, तमिलों की तमिल, गुजरातियों की गुजराती का बोध होता है उसी तरह हिन्दुस्तानी कहने से हिन्दुस्तानियों की हिन्दुस्तानी का बोध होता है. (लेख से)

placeholder

चिन्दी चिन्दी होती हिन्दी। हम क्या करें?- अमरनाथ

स्मिताओं की राजनीति करने वाले कौन लोग हैं ? कुछ गिने –चुने नेता, कुछ अभिनेता और कुछ स्वनामधन्य बोलियों के साहित्यकार। नेता जिन्हें स्थानीय जनता से वोट चाहिए। उन्हें पता होता है कि किस तरह अपनी भाषा और संस्कृति की भावनाओं में बहाकर गाँव की सीधी-सादी जनता का मूल्यवान वोट हासिल किया जा सकता है। (लेख से)

placeholder

तुलसी की लोकप्रियता का रहस्य- अमरनाथ

सारा अभियान अन्याय और अत्याचार के विरुद्ध है और समता और न्याय पर आधारित समाज की स्थापना के लिए है.  उन्होंने एक आदर्श राज्य – रामराज की परिकल्पना की है जो हमारे युग के महानतम व्यक्ति गांधी का भी सपना बन गया. (लेख से)

placeholder

दलित विमर्श के अंतर्विरोध- अमरनाथ

दलित आन्दोलन का उद्देश्य क्या होना चाहिए ? –एक ऐसे समाज की स्थापना जिसमें सामाजिक –आर्थिक विषमता न हो, जो ऊंच-नीच की अवधारणा से रहित हो और जो सामाजिक समानता पर आधारित हो. किसी भी सिद्धांत को परखने की कसौटी उसका व्यवहार है. (लेख से)

placeholder

माटी के दर्द को वाणी देती पानीदार ग़ज़लें – भागिनाथ वाकले

उदयभानु हंस ने मिथकीय पात्रों को मौजूदा समय की विसंगतियों और नैतिक पतन से जोड़कर यथार्थ रचना की है। डॉ रामजी तिवारी मिथकों के विषय में कहते हैं कि “मिथक जनमानस में पहले से बैठे रहते हैं, उनका आधार लेने से रचना की संप्रेषणीयता ज्यादा हो जाती है।“ इस हेतु ग़ज़लकार ने मिथकों का प्रयोग अपनी रचनाओं में किया है। (लेख से )

placeholder

प्रार्थना – रविंद्रनाथ टैगोर

Post Views: 9 हो चित्त जहाँ भय-शून्य, माथ हो उन्नतहो ज्ञान जहाँ पर मुक्त, खुला यह जग होघर की दीवारें बने न कोई काराहो जहाँ सत्य ही स्रोत सभी शब्दों…

placeholder

पूजा में बलि- प्रथा- अमरनाथ

बलि के पीछे का मुख्य कारण इन्सान का मांस भक्षण है. जबतक इन्सान को दूसरे जानवरों के मांस में स्वाद मिलेगा तबतक वह उनकी कुर्बानी भी करता रहेगा, जानवरों की बलि भी देता रहेगा. इन्सान अपने ईश्वर को वही चीजें भेंट करता है जो वह खुद पसंद करता है (लेख से)

placeholder

हिन्दी वालों की हिन्दी वालों से हिन्दी के लिए लड़ाई- अमरनाथ

आज यदि अभिभावक अंग्रेजी माध्यम की मांग कर भी रहे हैं तो उसका कारण स्पष्ट है. अंग्रेजी पढ़ने से नौकरियां मिलती हैं. जब चपरासी तक की नौकरियों में भी सरकार अंग्रेजी अनिवार्य करेगी तो अंग्रेजी की मांग बढ़ेगी ही. यह एक ऐसा मुल्क बन चुका है जहां का नागरिक चाहे देश की सभी भाषाओं में निष्णात हो किन्तु एक विदेशी भाषा अंग्रेजी न जानता हो तो उसे इस देश में कोई नौकरी नहीं मिल सकती (लेख से )