गाम के पान्ने – ओम प्रकाश करुणेश

गाम के पान्ने

गांव-मुहल्ले, कस्बे-शहर
अगड़-बगड़ में बसी मरोड़
पड़ोस के तान्ने, पास के पान्ने
बसे सरिक्के-कुणबे होड़
जलण में फुकते, राख फांकते
धूल उड़ाते, गोहर टेढ़े
घास-फूंस न्यार ने जारी
घर की रोणक नारी
सब कुछ सहती
यह घर का गहना
गम आए तो दुखों में बहना
दोष मढ़ें हम उस पे भारी
कस्बे शहर, गाम-मुहल्ले
उजले होते इनसे सारे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *